सूफी इस्लामिक बोर्ड ने किया पीएफआई का विरोध

Spread the love

कशिश वारसी
मुंबई (ग्लोबल न्यूज़) सूफी इस्लामिक वोट के राष्ट्रीय अध्यक्ष मंसूर खान, राष्ट्रीय महासचिव हसनैन बकाई व राष्ट्रीय प्रवक्ता कशिश वारसी के नेतृत्व में सूफी इस्लामिक बोर्ड ने महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश,दिल्ली,तेलंगाना व देश के अन्य हिस्सों में अपनी 4 पेज की पुस्तिका देकर भारत के सभी हिस्सों में पीएफआई के खिलाफ अभियान चलाने के अपने प्रयास तेज कर दिए हैं। पीएफआई के खिलाफ जन जागरूकता के अपने अभियान में देश के एक एक व्यक्ति को जागरूक करना प्रारंभ कर दिया है
सूफी इस्लामिक बोर्ड पिछले कई वर्षों से इस संगठन के खिलाफ जागरूकता पैदा करने की कोशिश में पीएफआई के विरोध में कार्य कर रहा है। उन्होंने भारत के माननीय राष्ट्रपति, भारत के माननीय प्रधान मंत्री और भारत के माननीय गृह मंत्री को कई अभ्यावेदन भी दे चुका हैं तथा बोर्ड पीएफआई पैन इंडिया पर प्रतिबंध लगाने के अपने प्रयासों में विभिन्न कानून लागू करने वाली एजेंसियों को प्रतिनिधित्व दिया है।
महाराष्ट्र महासचिव दर्शन अहीर और मुंबई, अध्यक्ष नूर मोहम्मद पाटनी ने यह 4 पेज की पुस्तिका प्रीति शर्मा मेनन राष्ट्रीय प्रवक्ता और महाराष्ट्र आम आदमी पार्टी की प्रभारी को वितरित की। सूफी इस्लामिक बोर्ड के फुकरा मंडल के सैयद अली शाह मलंग ने सांगली और कोल्हापुर के जिला कलेक्टर और मुंबई, सांगली और कोल्हापुर में आम जनता को पुस्तिका वितरित की। मुंबई वह जगह है जहां से सूफी इस्लामिक बोर्ड के कार्यों का नेतृत्व होता है

उत्तर प्रदेश में बलरामपुर मंडल अध्यक्ष अनवर हुसैन वारसी द्वारा बलरामपुर व गोंडा जिले के जिलाधिकारी व एसएसपी को बुकलेट ज्ञापन सौंपा गया.

दिल्ली में केंद्रीय कार्यकारी समिति के सदस्य और सूफी इस्लामिक बोर्ड के प्रभारी कमाल खान ने भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के अध्यक्ष जमाल सिद्दीकी और दिल्ली प्रशासन के अन्य पदाधिकारियों को बुकलेट सौंपी।
इसके अलावा तेलंगाना में लोगों में जागरूकता लाने के लिए पेडापल्ली और कागजनगर जिलों में आम जनता में पुस्तक वितरित की गई ताकि वे राष्ट्रीय स्तर पर #BanPFI के प्रयासों में मदद कर सकें।
सूफी इस्लामिक बोर्ड के केंद्रीय नेतृत्व ने ग्लोबल न्यूज़ को जारी एक बयान में कहा कि सूफी इस्लामिक बोर्ड ने अभियान की गति को तब तक जारी रखने का संकल्प लिया जब तक सरकार पीएफआई के खिलाफ कार्रवाई नहीं करती।

Leave a Reply

Your email address will not be published.